-->
yrDJooVjUUVjPPmgydgdYJNMEAXQXw13gYAIRnOQ
Bookmark

पटमदा-बोड़ाम के शिक्षकों ने पेश की मानवता की मिसाल, दिवंगत शिक्षक साथी यामिनी कांत महतो के श्राद्धकर्म हेतु परिजनों को सौंपा 1 लाख 27 हजार 400 की सहयोग राशि Teachers of Patamada-Bodam set an example of humanity


पटमदा : पटमदा-बोड़ाम के शिक्षकों ने दिवंगत सहायक अध्यापक यामिनि कान्त महतो के परिजनों को 1 लाख 27 हजार 400 रुपए की एकमुश्त सहयोग राशि सौंप कर मिशाल कायम किया गया है। ज्ञात हो कि यामिनी कान्त महतो विगत दिनों एक सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गए थे और  चिकित्सा के क्रम में उनका निधन हो गया था। यामिनी बाबू सहायक अध्यापक (पारा शिक्षक ) के रूप में अपने गाँव लच्छीपुर में कार्यरत थे। उनका परिवार पूरी तरह उनके मानदेय पर ही निर्भर था। उनके घर के खर्चा के साथ-साथ पुत्र की पढ़ाई का खर्चा उन्ही के रोजगार पर आश्रित था। उनके आकस्मिक निधन से परिवार असमंजस और मुसीबत में थी। ऐसे समय मे पटमदा-बोड़ाम के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने यामिनी बाबू के परिजनों को मदद की ठानी। दोनों ही प्रखंड के वरिष्ठ शिक्षक साथियों ने सभी शिक्षकों से यामिनी बाबू के परिजनों के सहयोग हेतु अपील की जिसे सभी ने सहर्ष स्वीकार किया। दोनों ही प्रखंडों के वरिष्ठ शिक्षकों जिसमे डॉ0 समीर कुमार, अरविंद कुईला, मधुसूदन प्रसाद, पिनाकी गोस्वामी, राजीव रंजन पांडे, राजेश कुमार मिश्रा, प्रदीप कुमार दत्ता, कृष्णा चन्द्र दास, शक्ति शेखर, प्रह्लाद घोष, परेश चंद्र महतो, अजीत कुमार आदि के नेतृत्व में कई शिक्षकों ने एक अभियान चलाकर 1,27,400 रुपए की राशि संग्रह किया। इस मुहिम को सफल करने में संयुक्त प्रखंड के प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी प्रभाकर कुमार का सराहनीय योगदान रहा। उन्ही के मार्गदर्शन में संग्रह का कार्य सम्पन्न हुआ। सोमवार को प्रखंड शिक्षा वीभाग के एक प्रतिनिधिमंडल ने स्व0 यामिनी कांत महतो के घर जाकर उनकी पत्नी और पुत्र के हाथों संग्रहित राशि सौंपते हुए उनका ढाँढस बँधाया। प्रतिनिधिमंडल में डॉ0 समीर कुमार, गोबर्धन महतो, राजीव रंजन पांडे, मधुसूदन प्रसाद, राजेश कुमार मिश्रा, शक्ति शेखर, जितेंद्र रवानी, मिहिर कुमार प्रमाणिक, प्रबोध कुमार महतो और पंचानन महतो आदि शामिल थे। वहीं पटमदा-बोड़ाम के संयुक्त सहायक अध्यापक संघ ने जिला अध्यक्ष सुमित कुमार तिवारी के नेतृत्व में कुल 49,100 रुपए का सहयोग राशि दिवंगत शिक्षक की पत्नी और पुत्र के हाथों सौंपा। इस पुनीत कार्य के लिए प्रखंड शिक्षा परिवार के सभी साथियों का हृदय से आभार व्यक्त किया गया है।
Post a Comment

Post a Comment