-->
yrDJooVjUUVjPPmgydgdYJNMEAXQXw13gYAIRnOQ
Bookmark

महिलाओं से छेड़खानी के विरोध में ग्रामीणों ने निर्माणाधीन नेताजी अस्पताल पर धावा बोला, आधा दर्जन मजदूरों की बेरहमी से की पिटाई Villagers attacked the under construction Netaji Hospital in protest against molestation of women


भारी संख्या में पुलिस बल के साथ मुख्यालय डीएसपी चंदन वत्स समेत कई थाना प्रभारी पहुंचे, उग्र ग्रामीणों को कर रहे समझाने का प्रयास
आदित्यपुर : आदित्यपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत हथियाडीह में निर्माणाधीन नेताजी सुभाष अस्पताल के मजदूरों पर छेड़खानी का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने धावा बोल दिया। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण हथियार के साथ अस्पताल परिसर में दाखिल हो गए और छेड़खानी के आरोपियों को ढूंढने लगे। इस क्रम में करीब आधा दर्जन मजदूरों की ग्रामीणों ने बेरहमी से पिटाई कर दी जिसे ईलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है।


मामले की जानकारी मिलते ही आदित्यपुर थाना पुलिस दल-बल के साथ मौके पर पहुंची और मामले को सुलझाने में जुट गई। हालात बेकाबू होने की जानकारी पर मुख्यालय डीएसपी चंदन वत्स, गम्हरिया थाना प्रभारी आलोक कुमार दुबे, कांड्रा थाना प्रभारी पास्कल टोप्पो, आरआईटी थाना प्रभारी सागर लाल महथा, कपाली ओपी प्रभारी संदीप चौहान सहित कई पुलिस अधिकारी काफी संख्या में महिला व पुरुष जवान के साथ मौके पर पहुंचे और किसी तरह ग्रामीणों के आक्रोश को शांत कराने में जुट गए। हालांकि उग्र ग्रामीणों ने पुलिस की मौजूदगी में गार्ड की बेरहमी से पिटाई कर दी। पुलिस पदाधिकारियों द्वारा किसी प्रकार गार्ड को बचा लिया गया।
घटना के सम्बंध में बताया जा रहा है कि सोमवार की देर शाम हथियाडीह की पांच-छह महिलाएं काम से लौट रही थी। इस दौरान निर्माणाधीन अस्पताल के कुछ मजदूरों ने महिलाओं के साथ छेड़खानी कर दी। नाराज महिलाएं जब अस्पताल के गेट पर पहुंची तो गार्ड ने अंदर प्रवेश करने से मना कर दिया। उसके बाद महिलाएं उग्र हो उठी और गांव में जाकर इसकी जानकारी दी। तत्पश्चात, सैकड़ों की संख्या में उग्र ग्रामीणों ने हरवे- हथियार के साथ परिसर को घेर लिया और देखते ही देखते उग्र हो गए।


ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि उक्त अस्पताल के निर्माण में मुर्शिदाबाद के मजदूरों से काम लिया जा रहा है, जो आए दिन सड़क पर आती-जाती महिलाओं एवं छात्राओं के साथ छेड़खानी करते हैं। समाचार लिखे जाने तक ग्रामीण डटे हुए हैं और माहौल तनावपूर्ण बना है। हालांकि मौके पर मौजूद डीएसपी ग्रामीणों और महिलाओं से वार्ता कर उन्हें समझाने में जुटे हैं। विदित हो कि हाल के दिनों में हथियाडीह के इंडस्ट्रियल पार्क में बन रहे कंपनियों और कंस्ट्रक्शन में ग्रामीण दखलंदाजी करते देखे जा रहे हैं। जमना ऑटो का विवाद अभी थमा नहीं है कि एकबार फिर से नेताजी सुभाष अस्पताल को लेकर नया विवाद खड़ा हो गया है।
Post a Comment

Post a Comment