-->
yrDJooVjUUVjPPmgydgdYJNMEAXQXw13gYAIRnOQ
Bookmark

संतमत सत्संग का 32वां दो दिवसीय वार्षिक अधिवेशन सम्पन्न 32nd two-day annual convention of Santmat Satsang concluded


गम्हरिया : सिंहभूम जिला संतमत सत्संग समिति की ओर से सतवाहिनी धिराजगंज स्थित सत्संग आश्रम में दो दिवसीय 32वां जिला वार्षिक अधिवेशन सम्पन्न हुआ। इस अधिवेशन में सिद्धपीठ कुप्पाघाट, भागलपुर से स्वामी प्रमोद बाबा, डॉ0 स्वामी विवेकानंद बाबा, स्वामी निर्मलानंद, स्वामी परमानंद समेत कई साधु संत शामिल हुए। इस मौके पर आयोजित प्रवचन में स्वामी प्रमोद बाबा ने कहा कि संसार का हर प्राणी शांति चाहता है किंतु वह सुख बाहर में ढूंढता है। संतमत सिखाता है कि सुख, शांति और ईश्वर मनुष्य के अपने भीतर है। संतमत में सत्संग, गुरु और ध्यान की महत्ता है। कहा कि संतमत सर्व धर्म समन्वय मत है। यह सभी धर्म के लोगों को मिलजुल रहने तथा व्यविचार, चोरी, नशा, हिंसा, झूठ आदि को त्यागना सिखाता है। इस मौके पर समिति के महामंत्री रमण कुमार लाभ, अनिल शर्मा, रामकिशोर शर्मा, नंदू भगत, संजय कुमार आदि भी उपस्थित थे। इसके सफल आयोजन में उमेश प्रसाद सिंह, मुरलीधर केडिया, श्याम मित्तल, लाल साहेब, अभय सिंह, नीरज, पंकज, जयरासुका, केडीपी सिंह, सच्चिदानंद, विकास श्रीवास्तव, सुनील, प्रिया कुमारी, रीता, रीना, गीता पाल, बिंदु, मुस्कान आदि का सराहनीय योगदान रहा।
Post a Comment

Post a Comment