-->
yrDJooVjUUVjPPmgydgdYJNMEAXQXw13gYAIRnOQ
Bookmark

निष्पक्ष पत्रकारिता कठिन, परंतु राष्ट्र निर्माण के लिए आवश्यक: बन्ना गुप्ता Impartial journalism is difficult, but necessary for nation building: Banna Gupta


जादूगोड़ा : भारती श्रमजीवी पत्रकार संघ की झारखंड राज्य इकाई झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा पूर्वी सिंहभूम जादूगोड़ा स्थित यूसीआईएल सभागार में एक दिवसीय कार्यशाला "राष्ट्र निर्माण में मिडिया की भूमिका" को संबोधित करते हुए अपने संबोधन में स्वास्थ्य मंत्री बना गुप्ता ने कहा कि मिडिया की भूमिका लोकतंत्र के सच्चे प्रहरी की होती है जो कमियों को उजागर कर देश एवं समाज हित में पूरी निष्पक्षता के साथ कार्य करता है। श्री गुप्ता ने कहा कि पत्रकार कभी पक्षकार नहीं हो सकते। भूमिका राष्ट्र निर्माण में हमेशा से रहा है और रहेगा। उन्हों ने कहा कि निष्पक्ष पत्रकारिता करना कठिन जरूर है परंतु राष्ट्र निर्माण के लिए यह आवश्यक भी है।
झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा पत्रकार स्वास्थ बीमा योजना लागू करने के बाबत उन्हों ने कहा कि पत्रकारों को आयुष्मान योजना के अंतर्गत भी कार्ड बनवाना चाहिए। पत्रकारों के बीमा एवं अन्य मांगों को मुख्यमंत्री के समक्ष रखेंगे। इससे पहले कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन यूसीआईएल प्रबंधक संजय शर्मा, घाटशिला अनुमंडल पदाधिकारी सत्यवीर रजक, बीएसपीएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक पांडेय, राष्ट्रीय सचिव गिरिधर शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार चंदन मिश्रा, झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष अमरकांत सिंह, प्रदेश महासचिव सिया राम शरण, प्रदेश उपाध्यक्ष कुमार कौशलेंद्र एवं स्थानीय थाना प्रभारी ने किया।
अपने संबोधन में घाटशिला अनुमंडल पदाधिकारी सत्यवीर रजक ने कहा कि पत्रकारों का कार्य है कि वे कमियों को उजागर में लाएं ताकी प्रशासनिक अधिकारी उस से अवगत हो सकें। श्री रजक ने कहा कि पत्रकार की रिर्पोट पर सरकार संज्ञान लेकर विकास कार्य को करती है। उन्हों ने कहा देश का निर्माण तब होगा जब प्रखंड का निर्माण होगा, प्रखण्ड का निर्माण होगा तो जिले का निर्माण होगा, जिले का निर्माण होगा तब राज्य और देश का निर्माण होगा। वरिष्ठ पत्रकार अशोक पांडेय ने अपने संबोधन में कहा कि मिडिया लोकतंत्र का पहला स्तंभ है, बाकी अन्य तीन स्तंभ हैं। श्री पांडेय ने कहा कि अखबार की विश्वसनीयता विश्व भर में कल भी थी, आज भी है और कल भी रहेगी। जब कभी कहीं कोई भ्रामक खबर का प्रसारण होता है तो उस ख़बर का सत्यापन आज भी लोग अखबार में पढ़ कर तलाश करते हैं। उन्हों ने कहा कि ख़बर का महत्व होता है किसी बड़े अख़बार के बैनर का नहीं। देश में जितने बड़े घोटाले उजागर हुए उन्हें उजागर करने वाला गली मोहल्ले का पत्रकार रहा है। यूसीआइएल के प्रबंधक संजय शर्मा ने एक पक्षीय पत्रकारिता पर चिंता जताते हुए कहा कि पत्रकार जब तक किसी मामले की पूरी सच्चाई का पता नहीं हो किसी की सुनी सुनाई बातों को प्रकाशित नहीं करना चाहिए।
राष्ट्रीय महासचिव शाहनवाज़ हसन ने कहा कि आज भी मिडिया ही एक मात्र ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा उच्चतम न्यायालय के न्यायधीश से लेकर गांव का मुखिया तक अपनी बातों को रखता है। लोकतन्त्र का प्रहरी आज सबसे अधिक असुरक्षित हैं बावजूद इसके पत्रकार निडर निर्भीक होकर देश और समाज हित में अपने कर्तव्य का निर्वाह करते हैं।
Post a Comment

Post a Comment