-->
yrDJooVjUUVjPPmgydgdYJNMEAXQXw13gYAIRnOQ
Bookmark

जेएमटी ऑटो लिमिटेड अधिग्रहण के लिए एनसीएलटी की मिली मंजूरी NCLT nod for JMT Auto Ltd acquisition,


रामकृष्णा फोर्जिंग्स के पक्ष में आया फैसला, चार हजार लोगों को मिलेगा रोजगार
आदित्यपुर : आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र की बंद पड़ी बड़ी कंपनी जेएमटी ऑटो लिमिटेड के रामकृष्णा फोर्जिंग्स लिमिटेड द्वारा अधिग्रहण किए जाने के बाद इसको लेकर नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में चल रहे ममाले की सुनवाई हुई। अंततः रामाकृष्णा फोर्जिंग के पक्ष में फैसला आया और उसे मंजूरी दे दी गई. बीएसई में सूचीबद्ध‍ जेएमटी ऑटो ने एक्सचेंज को भेजी सूचना में कहा कि आईबीसी की शर्तों के मुताबिक दो समाधान योजनाओं पर विगत 19 नवंबर 2022 को ई-वोटिंग हुई थी. जिसका परिणाम इसी वर्ष 16 जनवरी'2023 को रामकृष्णा फोर्जिंग के पक्ष में दिया गया था. इसके बाद अधिग्रहण का मामला एनसीएलटी कोर्ट दिल्ली में चल रहा था. इसकी सुनवाई पुरी होने के बाद सोमवार को रामाकृष्णा फोर्जिंग कंपनी के पक्ष में फैसला दिया गया है. गौरतलब है कि जेएमटी ग्रुप की सात इकाइयों को 84.61 प्रतिशत लेनदारों ने मंजूरी दी थी. जेएमटी ग्रुप के सात ईकाईयों में ऐक्सिस बैंक का 76.93 करोड़ रुपए, आईडीबीआई बैंक का 58.12 करोड़ रुपए, भारतीय स्टेट बैंक का 25.9 करोड़ रुपए का बकाया था. 
ज्ञात हो कि आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी के रूप में जेमएटी ऑटो ग्रुप को माना जाता था. आदित्यपुर में इस्की कुल सात इकाई हैं जिसमें करीब चार हजार स
कामगार हैं. पूर्व में उक्त कंपनी को एमटेक समुह ने खरीद लिया था, लेकिन कंपनी धीरे-धीरे कर्ज में डूबती गई और फिर बंद होने के बाद दिवालिया घोषित हो गई थी. इसके बाद कंपनी की नीलामी की प्रक्रिया शुरू हुई और इसमें रामकृष्णा फोर्जिंग्स ग्रुप सफल बोलीदाता के रूप में सामने आया. कंपनी सूत्रों की मानें तो इन सातों इकाईयों के खुलने के बाद करीब चार हजार कामगारों को फिर से रोजगार मिलने के आसार बन गए हैं.
Post a Comment

Post a Comment